Top Post Ad

गर्भावस्था में खान पान पर बहुत ध्यान देने की जरूरत होती है। इस दौरान जो भी आप खाएंगी वह बच्चे को मिलेगा। खास तौर से सुबह की पहली खुराक बच्चे की सेहत पर बहुत अधिक असर डालती है। रात भर के लंबे ब्रेक के बाद यह पहला निवाला होता है जो बच्चे तक पहुँचता है। 


 
इसलिए सुबह की अपनी पहली खुराक को लेते समय बहुत ज्यादा ध्यान देने की आवश्यकता होती है। अक्सर ये देखा गया है कि इस दौरान गर्भवती महिलाओं को सुबह उठते ही भूख लगती है पर उन्हें यह नहीं पता होता कि उन्हें क्या खाना चाहिए।
 
प्रेग्नेंट महिला को कभी भी नाश्ता स्किप नहीं करना चाहिए। यानि की उसको नाश्ता छोड़ना चाहिए। नाश्ता जरूर करना चाहिए। सुबह का पहला नाश्ता ऐसा होना चाहिए, जिससे इंस्टेंट एनर्जी मिल सके। अधिक से अधिक कैलोरी बॉडी में जाए।
 

प्रेग्नेंट महिला को सुबह उठते ही क्या खाना चाहिए।

 
 

खाली पेट गुनगुना पानी पीना चाहिए

 
आप सुबह खाली पेट गुनगुना पानी पी सकती है। गुनगुना पानी बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होता है। प्रेग्नेंसी के दौरान गुनगुना पानी पीने से आप की जो पाचन तंत्र है वह ठीक रहता है और ब्लड सर्कुलेशन सही बना रहता है। प्रेग्नेंसी के समय सुबह सुबह मतली होना डीहाइड्रेशन का संकेत है। अगर आप सुबह सुबह खाली पेट गुनगुना पानी पीती हैं तो आपका शरीर अधिक पानी को ग्रहण करता है और मतली संबंधी समस्याएं दूर होने लगती हैं।
 

भीगे हुए बादाम

 
भीगे हुए बादाम को गर्भावस्था के दौरान खाना मां और बच्चे दोनों के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद है। 7 से 8 बादाम सुबह खाने से मां और गर्भ में पल रहे बच्चे दोनों को पोषण और ऊर्जा मिलती है, लेकिन भीगे हुए बादाम खाने का एक तरीका है और वह तरीका है कि आपको बदाम छिलके उतार कर खाना है। इससे आपको ज्यादा फायदे मिलेंगे। इसमें मौजूद फोलिक एसिड आपको आसानी से हजम हो जाएगा या फिर कह सकते हैं कि आपकी जो बॉडी है उसको आसानी से ऑब्जर्व करेगी। साथ ही साथ रात में भिगोकर सुबह बादाम का सेवन करने से आपको अपच, सूजन, ऐंठन यानी कॉन्ट्रैक्शन से काफी हद तक मदद मिलती है। साथ ही साथ शिशु का दिमाग तेज होता है और शिशु का बेहतर विकास होता है।
 

भीगे हुए चने

 
भीगे हुए चने गर्भावस्था में जो महिलाएं भीगे हुए बादाम नहीं खा सकती तो वह भीगे हुए चने का सेवन कर सकती है। आपको कुछ मुट्ठी भर चने रात भर भिगो कर रखने हैं। सुबह आपको इनको खाली पेट खाना है। आप इसको रोजाना खा सकती हैं। इसमें भरपूर मात्रा में प्रोटीन और फाइबर होता है। साथ ही साथ बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं, जिससे आपकी और आपके शिशु की बेहतर सेहत बनी रहेगी।
 

भीगे हुए मुनक्के

 
भीगे हुए मुनक्के गर्भवती महिलाओं के लिए वरदान होते हैं। इसमें भरपूर मात्रा में आयरन होता है, जिससे गर्भवती महिलाओं को आयरन की कमी नहीं होती, जिससे अनीमिया होने का खतरा नहीं रहता। गर्भवती महिलाओं को 5 से 6 मुनक्के रात भर भिगोकर रखना है। सुबह को इनका सेवन करना है और इनको खाने से आपको बहुत ज्यादा फायदे होंगे और आप इनको एक दिन छोड़कर खा सकती हैं।
 

ब्राउन ब्रेड

 
ब्राउन ब्रेड प्रेग्नेंसी में कई बार रोटी या चपाती खाने का मन नहीं करता तो ऐसे में आप सुबह के नाश्ते में ब्राउन ब्रेड और बटर ले सकती हैं। मक्खन की जगह आप पीनट बटर का इस्तेमाल करती हैं तो इससे आपको ज्यादा फायदे होंगे। पीनट बटर में विटामिन E भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो आपको लंबे समय तक एनर्जी देगा। साथ ही साथ इस मक्खन में वसा की मात्रा काफी कम होती है, जिसके कारण आपका वजन ज्यादा नहीं बढ़ेगा। इसके इलावा आप नाश्ते में रोटी भी खा सकती हैं।
 

ओट्स और दलिया

 
गर्भावस्था में सुबह के नाश्ते में ओट्स बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है। ओट्स में फाइबर की मात्रा भरपूर होने के कारण आपको कब्ज नहीं होगी। इसके इलावा ओट्स में आयरन होता है। फोलिक एसिड होता है। कैल्शियम होता है। जिंक होता है जो गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है। आप ओट्स की जगह दलिया भी खा सकती हैं। आप चाहें तो मीठा दलिया खाएं या नमकीन दलिया खाएं। दोनों ही आपके लिए फायदेमंद है। यह आपकी दिन की शुरूआत करने के लिए बहुत ही ज्यादा बेहतर विकल्प है और बेहतर नाश्ता है। नाश्ते के लिए दलिया का सेवन आपको दिनभर एनर्जी से भरा रखेगा।
 

अंडे का सेवन

 
गर्भावस्था में गर्भवती महिलाओं के लिए अंडा सुपरफूड कहा जाता है। गर्भवती महिलाओं को रोजाना दो उबले हुए अंडे का सेवन करना चाहिए जो गर्भवती महिलाएं उबला अंडा नहीं खा सकती तो वह आमलेट और अंडे की भुर्जी बनाकर खा सकती हैं। लेकिन यहां मैं आपको बता देना चाहता हूं। उबला अंडा ज्यादा फायदेमंद है, लेकिन यहां पर आपको एक बात याद रखनी है। आपको कच्चा या हाफ फ्राई अंडा बिल्कुल नहीं खाना ये नुकसानदायक साबित हो सकता है अंडे में बहुत ज्यादा प्रोटीन होता है। इससे आपका वजन तेजी से बढ़ेगा। साथ ही साथ जिन गर्भवती महिलाओं के शिशु का वजन कम है उन गर्भवती महिलाओं के लिए अंडा वरदान है।
 

बनाना शेक

 
बनाना शेक सुबह के नाश्ते में आप बनाना शेक पी सकती हैं। ये बहुत ही ज्यादा फायदेमंद है। इससे आपको केले के फायदे मिलेंगे। साथ साथ दूध के फायदे भी आपको मिलेंगे। जो गर्भवती महिलाएं सिंपल दूध नहीं पी सकती तो उनके लिए बनाना शेक बहुत ही ज्यादा फायदेमंद है। इससे गर्भवती महिलाओं का वजन बढ़ेगा। जिन गर्भवती महिलाओं के शिशु का वजन कम है, अंडरवेट है उन गर्भवती महिलाओं को बनाना शेक रोजाना पीना चाहिए। सुबह के नाश्ते में इसके इलावा व दोपहर को भी पी सकती हैं,
 

सेब

 
 
यूं तो सभी फल फायदेमंद होते हैं, लेकिन गर्भवती महिलाओं को सेब खाना बहुत ज्यादा फायदेमंद होता है। इसमें पौष्टिक तत्वों की भरमार होती है। सेब में आयरन होता है। ऐसे में विटामिन्स होतें हैं। सेब में अन्य खनिज तत्व होते हैं, जो गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत ज्यादा फायदेमंद है। ये एक अच्छा एंटीऑक्सीडेंट भी है। गर्भावस्था में सेब खाने से आपका पाचनतंत्र ठीक रहेगा। साथ ही साथ आपने सुना होगा। “AN APPLE A DAY KEEPS THE DOCTOR AWAY” यानी सुबह आप एक सेब जरूर खाएं।
 

चाय,कॉफी की जगह जूस

 
गर्भवती महिलाओं को सुबह चाय या कॉफी पीने से बचना चाहिए। उनको सुबह के नाश्ते में संतरे, मुसम्मी या फिर किसी भी फल का जूस पीना चाहिए। इससे गर्भवती महिलाओं को बेहतर फायदे मिलेंगे। प्रेग्नेंसी में ताजे फलों का जूस पीने से गर्भवती महिलाएं स्वस्थ महसूस करेंगी और डॉक्टर भी गर्भवती महिलाओं को रोज एक गिलास जूस पीने की सलाह देते हैं। इसमें महिलाओं को विटामिन और मिनरल्स मिलते हैं ताकि शरीर स्वस्थ बना रहे और साथ ही साथ शिशु का बेहतर विकास हो।
 
 

दूध का सेवन

 
जो गर्भवती महिलाएं सुबह नाश्ते के दौरान जूस नहीं पी सकती तो उन गर्भवती महिलाओं को चाय और कॉफी पीने की बजाए दूध पीने की आदत सुबह डाल देनी चाहिए। आप सुबह उठकर दूध पिए दूध में मौजूद पौष्टिक तत्वों के कारण इसे संपूर्ण आहार कहा गया है और अगर आपको दूध पीने से मतली या उल्टी आ रही हो तो आप साथ में कुछ बिस्कुट या नट्स भी खा सकती हैं। इससे आपको बहुत ज्यादा फायदे मिलेंगे ।

Post a Comment

Previous Post Next Post

Action Movies