Top Post Ad

 

दोस्तो आज हम बात करेंगे कि महा शिवरात्रि के व्रत में खाने पीने के क्या नियम हैं। इस व्रत में कौन सी चीजें खानी चाहिए और कौन सी चीजें हैं जिन्हें हमें इस दिन नहीं खाना चाहिए 

 


 

दोस्तो महाशिवरात्रि को भगवान शिव की आराधना का मुख्य त्योहार माना गया है। शिव पुराण के इसान संहिता के अनुसार इस दिन ही शिव करोड़ों सूर्य के समान प्रभाव वाले रूप में अवतरित हुए थे। मान्यता है कि इसी दिन माता पार्वती के साथ भोले नाथ जी का विवाह हुआ था शिव का आशीर्वाद पाने के लिए भक्त व्रत और उपवास भी रखते हैं।

महा शिवरात्रि पर व्रत रखने का एक अलग ही महत्व है। इस व्रत को सभी नर नारी रख सकते हैं। कहा जाता है कि भोले नाथ जैसा वर की चाह में कुंवारी कन्या यह व्रत करती है इससे उन्हें अच्छा वर मिलता है वहीं सुहागिन महिलाएं भी शिवरात्रि के दिन व्रत रखती हैं। ऐसा करने से उनके पति का जीवन और स्वास्थ हमेशा अच्छा रहता है।


 


 



महाशिवरात्रि व्रत निर्जला और फलाहार 

 

दोस्तो कुछ लोग इस व्रत को निर्जला रखते हैं तो कुछ लोग फलाहार रह कर महा शिवरात्रि का व्रत करते हैं। ऐसी मान्यता है कि व्रत रखने वालों को शिवरात्रि पर चावल, दाल और गेहूं से बने खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए। साथ ही व्रत रखने वालों को इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि हर समय नहीं खाना चाहिए। कुछ लोग व्रत के दिन ज्यादा ही खाना खा लेते हैं या थोड़ी थोड़ी देर में कुछ न कुछ खाते रहते हैं तो ऐसा न करें। आप नाश्ते और खाने के समय में ही अपना फलाहार करें।

 

 

महाशिवरात्रि फलाहार व्रत में क्या क्या खा सकते हैं 

 दोस्तो व्रत के दिन विशेष भोजन किया जाता है व्रत के समय आप जूस, चाय या दूध का सेवन कर सकते हैं। सुबह के समय 10, 11 बजे आप फलाहार कर सकते हैं




फलाहार में संतरा, खीरा, पपीता, सेब या कोई भी मौसमी फल जो उपलब्ध हो खा सकते हैं। महा शिवरात्रि व्रत में भी सात्विक भोजन खाना चाहिए। अगर आपको स्वास्थ्य संबंधी कोई समस्या न हो तो बिना नमक के भी यह व्रत किया जा सकता है वरना सेंधा नमक का सेवन कर सकते हैं। इस व्रत में काली मिर्च का भी प्रयोग कर सकते हैं।


कुछ लोग इस व्रत में मूंगफली नहीं खाते हैं लेकिन यह आपके ऊपर है। आप चाहें तो मूंगफली खा सकते हैं अथवा नहीं। इस व्रत में मीठा भी खा सकते हैं। किसी फल की खीर जैसे गाजर या लौकी की खीर भी बनाई जा सकती है। महाशिवरात्रि के व्रत में मखाना खा सकते हैं। इसका इस्तेमाल कई तरह से कर सकते हैं। कई लोग दूध के साथ खीर बनाकर खाते हैं तो कुछ लोग लोगों घी के साथ फ्राई करके खाते हैं। आप और भी ड्राई फ्रूट्स खा सकते हैं। अगर व्रत में कुछ नमकीन खाना हो तो सिंघाड़े या कुट्टू के आटे की पकौड़ी भी खाई जा सकती है या इनकी पूड़ी भी खा सकते हैं। इस व्रत में आलू भी खाया जाता है। मीठे में आलू को उबाल कर हलवा भी बना सकते हैं या इसके अलावा आलू को फ्राई करके खा सकते हैं। इस व्रत में साबूदाना भी खा सकते हैं। साबूदाना के पापड़ खीर पकौड़ी या खिचड़ी आदि बनाकर खा सकते हैं। दोस्तो कुछ लोग तो इस दिन ठंडाई भी पीते हैं। शिवरात्रि के दिन प्रसाद स्वरूप ठंडाई में भांग मिलाकर भी पीते हैं क्योंकि शिव जी को भांग अतिप्रिय है लेकिन बिना भांग के भी व्रत में ठंडाई पी जा सकती है। 


Mahashivratri 2022: महाशिवरात्रि तिथि 2022



हिंदू पंचांग के अनुसार इस वर्ष महाशिवरात्रि का पर्व 01 मार्च, मंगलवार को है. चतुर्दशी तिथि मंगलवार की सुबह 03 बजकर 16 मिनट से शुरू होकर 02 मार्च, बुधवार को सुबह करीब 10 बजे तक रहेगी.

महाशिवरात्रि का व्रत कब खोला जाता है?



शिवरात्रि वाले दिन सुबह स्नान करके मंदिर में पूजा करने जाना चाहिए. श‍िवरात्र‍ि के मौके पर भगवान श‍िव पूजा रात्र‍ि खास रूप से करनी चाहिए. पूरे दिन और रात उपवास करने के बाद अगले दिन सूर्योदय होने के बाद नहाकर ही व्रत खोला जाता हैं।.



भोले नाथ आपका कल्याण करेंगे तो दोस्तो यह जानकारी आपको कैसी लगी हमें कमेंट करके बताये 


Post a Comment

Previous Post Next Post

Action Movies